आ गए तुम

A composition of rare beauty by Mahasweta Devi that must be revisited over and over

आ गए तुम?

द्वार खुला है, अंदर आओ..
पर तनिक ठहरो..

ड्योढी पर पड़े पायदान पर,
अपना अहं झाड़ आना..

मधुमालती लिपटी है मुंडेर से,
अपनी नाराज़गी वहीँ उड़ेल आना..

तुलसी के क्यारे में,
मन की चटकन चढ़ा आना..

अपनी व्यस्ततायें, बाहर खूंटी पर ही टांग आना..
जूतों संग, हर नकारात्मकता उतार आना..

बाहर किलोलते बच्चों से,
थोड़ी शरारत माँग लाना..

वो गुलाब के गमले में, मुस्कान लगी है..
तोड़ कर पहन आना..

लाओ, अपनी उलझनें मुझे थमा दो..
तुम्हारी थकान पर, मनुहारों का पँखा झुला दूँ..

देखो, शाम बिछाई है मैंने,
सूरज क्षितिज पर बाँधा है,

लाली छिड़की है नभ पर..
प्रेम और विश्वास की मद्धम आंच पर, चाय चढ़ाई है,
घूँट घूँट पीना..

सुनो, इतना मुश्किल भी नहीं हैं जीना..

Advertisements

निराशा

यूँ तो जब बारिश होती है
खिलती है दिल में धूप
धुली धुली सी शाम को देख
लगता है गुब्बारा बन उड़ जायें

पर आज है मन में अँधेरा
बंद कमरे वाली सीलन
अजीब सी छटपटाहत

जैसे कुछ खो गया है
जैसे कोई बड़ा नुक़सान हुआ है
जैसे साँसों में काँटे लगे हैं
और छाती पे ईंटें रखे हैं

इंतज़ार है मौसम बदलने का
और किसी रोशनदान के खुलने का
आज की सिसकी भर लेंगे यादों के दब्बे में
शायद रखे रखे पक के मीठी हो जाए

Sovereign Colours 

  
गणतंत्र का प्रण रहे

स्वावलंबन का गर्व रहे

एकता का बल रहे

एेसे सदैव भारत अमर रहे । 

सहिष्णुता का भाव रहे

द्वेष का आभाव रहे

संस्कृतियों का संगम रहे

विचारों में उद्यम रहे । 

खेत खलिहानों में लह लहान रहे

उद्योगों में धन धान रहे

हस्त कला का सम्मान रहे

पाक परम्परा का उत्थान रहे ।  

स्त्री-पुरूष, जन-जाति

धर्म-सम्प्रदाय में ना कोई भेद रहे

संविधान की गरिमा बनी रहे

भावी युग पर उज्ज्वल लालिमा चढ़ी रहे ।

Shubh Deepawali



बोली में बर्फ़ी घोलिये, दिलों में दिये जलाइये  

मित्रों संग मौज उड़ाइये, हर बरस दीवाली धूम से मनाइये ।

घरों में रौनक़ करिये, बातों में चहक भरिये

ताश में थोड़ा पैसा गँवाइए, हर बरस दीवाली धूम से मनाइये ।

तरह तरह के पकवान चखिये, मीठे के लिये पेट में जगह रखिये

रंगोली से द्वार को जगमग बनाइये, हर बरस दीवाली धूम से मनाइये ।

लक्ष्मी का नमन करिये, गणेश को प्रसन्न करिये

अपने मन में ईश्वर को लाइये, हर बरस दीवाली धूम से मनाइये ।

Turning utensils to decor 

  
Baked clay pans used to make rotis (flatbreads). These can be beautifully transformed into decorative plates to be hung on walls. Best to cluster them together and make a little theme corner in your house. 

Check out my next post to see what do I turn them into !